Pages

Mar 11, 2013

Dushyant Kumar Poem


ज़िन्दगी में कुछ भी कभी हरपल नहीं रहता
जो आज साथ होता है तुम्हारे वो कल नहीं रहता

मैं फ़िज़ूल रोया करता था लम्हों पे दशको पे
समझ आया अब की वक़्त खुद भी सदा प्रबल नहीं रहता

मरते हैं इसके भी पल जो बहते हैं इसकी धाराओ में
सदा को ठहरा हुआ कोई भी इसका पल नहीं रहता

सिर्फ तू भंवर में है ये सोचना सरासर भूल है
ये झरना है, इस अहद में अब ये कल-कल नहीं बहता

इस दूध की धारा को मैंने पूजा भी दिए भी सिराये
पर जब से सागर में मिला फिर वो गंगाजल नहीं रहता

कितना लालची हूँ की जिसके सजदे किये नवाज़ा भी
वो जब से खारा हुआ ठोकरों के भी काबिल नहीं रहता

तू हाथों की लकीरों पे चला तो नदी जैसा भटकता रहा
तूने खुद को कभी नहीं खोजा तभी तू सफल नहीं रहता

और तू मुझे मसीहा मत समझ मैं खुद विफल हूँ हालातों से
हाँ मगर होंसला अब नहीं हरा वर्ना ये ग़ज़ल नहीं कहता

No comments:

Post a Comment

Note: Only a member of this blog may post a comment.